पथरी तोड़ने की दवा, Kidney Stone Tablets, kidney stone medicine name, kidney stone tablet, kidney stone medication, medicine for kidney stone

पथरी तोड़ने की दवा | Medicine for Kidney Stone

पथरी एक सामान्य स्वास्थ्य समस्या है जो गुर्दे में बने हुए पथरी या स्टोन्स के रूप में विशेष रूप से जानी जाती है। यह शरीर के अंदर कैमिकल्स और अन्य पदार्थों के जमाव के कारण गुर्दे में बनती हैं। यह बहुत दर्दनाक हो सकती है और इससे बचाव और इलाज की जरूरत होती है। इस ब्लॉग में, हम पथरी के अर्थ, इसके कारण, लक्षण, प्रकार, निदान और इलाज के बारे में विस्तार से जानकारी देंगे।

पथरी तोड़ने की दवा, बिना ऑपरेशन पथरी का इलाज, kidney kharab ke lakshan, kidney kharab hone ke karan

 

पथरी का अर्थ:

पथरी या गुर्दे में पथरी उन ठोस संयोजनों को कहा जाता है जो गुर्दे के अंदर बन सकते हैं। ये संयोजन गुर्दे के अंदर के विभिन्न रासायनिक पदार्थों से बन सकते हैं, जिनमें कैल्शियम, यूरिक एसिड, मैग्नीशियम और अन्य तत्व शामिल हो सकते हैं। ये संयोजन आमतौर पर छोटे चट्टानों की आकार में होते हैं और कभी-कभी बड़े चट्टानों की भी हो सकते हैं, जो गुर्दे के आस-पास चले जाते हैं और दर्द और जलन उत्पन्न कर सकते हैं।

 

पथरी के कारण:

पथरी के प्रमुख कारणों में निम्नलिखित शामिल हैं:

1. पानी की कमी: सही मात्रा में पानी पीने की कमी के कारण शरीर में कल्‍की और अन्य तत्व संचित हो सकते हैं, जो गुर्दे में पथरी का कारण बन सकते हैं।

2. आहार: अधिक तली हुई खाद्य पदार्थों, नमक और चीनी जैसे पदार्थों का सेवन पथरी के बढ़ने के लिए अधिक अवस्था को बढ़ा सकता है।

3. उच्च रक्तचाप और डायबिटीज: ये रोग भी पथरी के जन्म का कारण हो सकते हैं।

4. अनुवांशिक अंतर: कुछ लोगों में पथरी का जोन अनुवांशिकता से हो सकता है।

 

 

    पथरी के लक्षण:

    पथरी के लक्षण व्यक्ति के अनुसार भिन्न हो सकते हैं, और इन लक्षणों का अनुभव भी व्यक्ति के पथरी के प्रकार और उसके आकार पर निर्भर करता है। यहां कुछ सामान्य पथरी के लक्षण दिए गए हैं:

    1. दर्द: यह सबसे मुख्य और प्रमुख लक्षण है। गुर्दे के क्षेत्र में तेज और अचानक दर्द होता है, जो आमतौर पर पीठ के नीचे की ओर होता है और इसे कम करने के लिए व्यक्ति आदतन आगे-पीछे घुमने की कोशिश करता है। इस दर्द को "लम्बोर्डिनी का दर्द" भी कहा जाता है, क्योंकि यह अत्यधिक तीव्र होता है।

    2. पेशाब के लिए इच्छा: एक अन्य लक्षण यह है कि व्यक्ति को अचानक पेशाब करने की बहुत अधिक इच्छा होती है, और यह तब होता है जब वे पहले से ही प्यासे हों या खड़े हों।

    3. मूत्रमार्ग में अवरोध: बड़े पथरी के कारण, मूत्रमार्ग में अवरोध हो सकता है, जिससे पेशाब की प्रवृत्ति में दिक्कत होती है। यह अवरोधित पेशाब को अधिक दर्दनाक बना सकता है और मूत्रमार्ग की संक्रमण का कारण बन सकता है।

    4. पेशाब में रंग और संरचना में परिवर्तन: पेशाब में धूली या रक्त होने का अनुभव हो सकता है, जिससे पेशाब का रंग गहरा हो जाता है या पेशाब में बौनी या छोटे से छोटे पथरी के टुकड़े नजर आ सकते हैं।

    5. तेज तापमान और उल्टी: बड़ी पथरी के कारण, व्यक्ति को अचानक तेज तापमान या उल्टी की समस्या हो सकती है। यह विशेष रूप से मूत्रमार्ग में बड़े पथरी के संकेत के रूप में दिख सकता है।

     

     

      पथरी का निदान:

      पथरी का निदान करने के लिए एलोपैथी, आयुर्वेदिक चिकित्सा, योग और व्यायाम जैसे विभिन्न तरीके हो सकते हैं। यहां मैं इन तीनों पर विस्तार से बताता हूँ:

      1. एलोपैथी (Allopathy):


         - रोगी का इतिहास लेना: एलोपैथिक डॉक्टर सामान्यत: पथरी के लक्षणों का विवरण और आपकी स्वास्थ्य इतिहास को पूछेगा।

       

         - शारीरिक जांच: उपयुक्त शारीरिक परीक्षण जैसे कि अब्डोमिनल या पेल्विक एक्सामिनेशन कर सकते हैं।

       

         - रेंटजेन/CT स्कैन: पथरी की उपस्थिति और स्थान की निश्चित करने के लिए इस जांच का उपयोग किया जा सकता है।

       

         - उपचार: एलोपैथिक उपचार अक्सर दवाओं के उपयोग, जैसे कि दर्द निवारक या द्रव्य, और कभी-कभी सर्जरी के माध्यम से पथरी को हटाने की सलाह देते हैं।


      2. आयुर्वेदिक चिकित्सा:

           - नाड़ी परीक्षण: आयुर्वेदिक चिकित्सक आपकी नाड़ियों की परीक्षा करते हैं ताकि वे आपके प्राकृतिक स्थिति और रोग का कारण समझ सकें।

           - प्राकृतिक उपचार: आयुर्वेद में आहार, व्यायाम, और औषधियों का उपयोग करके पथरी का उपचार किया जाता है। यहां व्यायाम और योग का महत्व बड़ा होता है।

           - पंचकर्म उपचार: इसमें विशेष तरह के शुद्धिकरण, स्नेहन, स्वेदन, विरेचन, और बस्ती के उपयोग से शरीर की शुद्धि करने का प्रयास किया जाता है।


        3. योग और व्यायाम:

          पथरी के लिए योग और व्यायाम का प्रयोग बहुत महत्वपूर्ण हो सकता है। यहां कुछ योग आसन और व्यायाम की जानकारी है जो पथरी के इलाज में सहायक हो सकती हैं:

          पथरी तोड़ने की दवा, बिना ऑपरेशन पथरी का इलाज, kidney kharab ke lakshan, kidney kharab hone ke karan

           

          1. पवनमुक्तासन (Wind-Relieving Pose):

             - इस आसन में पेट को दबाया जाता है, जिससे कि पेट की मांसपेशियां और किडनी पर दबाव कम होता है। इससे पथरी के इलाज में मदद मिल सकती है।


          1. उत्तानपादासन (Raised Leg Pose):

             - यह आसन पेट के प्रति दबाव को कम करने में मदद कर सकता है, जिससे कि पथरी के रोगी की स्थिति में आराम हो सकता है।


          1. भुजंगासन (Cobra Pose):

             - इस आसन में पीठ की मांसपेशियां और कमर की कसरत की जाती है, जिससे कि पेट की किडनी की रक्त संवहनी बढ़ सकती है। यह पथरी रोगी के लिए उपयुक्त हो सकता है।


          1. धनुरासन (Bow Pose):

             - इस आसन में पूरे शरीर को खींचा जाता है, जो पेट की मांसपेशियां और किडनी की सहायता कर सकता है। यह पथरी के इलाज में उपयुक्त हो सकता है।


          1. वृक्षासन (Tree Pose):

             - यह आसन स्थिरता और संतुलन को बढ़ाने में मदद कर सकता है, जो कि पथरी जैसे रोगों के इलाज में महत्वपूर्ण हो सकता है।


          व्यायाम भी पथरी के इलाज में मदद कर सकता है, जैसे कि निम्नलिखित:

          1. प्राणायाम (Breathing Exercises):

             - अनुलोम-विलोम, भ्रामरी, और भस्त्रिका प्राणायाम पथरी के रोगी को शांति और चिकित्सा में मदद कर सकते हैं।


          1. ध्यान (Meditation):

             - ध्यान से मानसिक तनाव को कम करने में मदद मिलती है, जिससे शरीर का तत्विक संतुलन बना रहता है और इलाज के प्रक्रिया में उत्तेजना मिलती है।


          योग और व्यायाम को पथरी के रोगी की स्थिति के अनुसार संशोधित किया जाना चाहिए। सबसे अच्छा तरीका है कि इसे अपने चिकित्सक से परामर्श करके और उनकी मार्गदर्शन में करें, ताकि योग और व्यायाम सही तरीके से किए जा सकें और स्वास्थ्य लाभ प्राप्त किया जा सके।

           

           

          पथरी तोड़ने के विभिन्न विकल्प:

          पथरी को तोड़ने के विभिन्न विकल्प निम्नलिखित हो सकते हैं:

          1. दवाईयाँ (Medications):

               - आल्फा-ब्लॉकर्स: जैसे टेराजोसिन या डोक्साजोसिन, जो मूत्राशय और यूरेटर को आराम प्रदान करके पथरी को बाहर निकालने में मदद कर सकते हैं।


               - कैल्शियम चैनल ब्लॉकर्स: जैसे निफेदिपीन, जो पथरी के उपचार में उपयोगी हो सकता है।


               - दर्द निवारक और एंटीइंफ्लेमेटरी दवाएँ: इन्हें सूजन और दर्द को कम करने के लिए उपयोग किया जा सकता है, जैसे इबुप्रोफेन।


            2. अस्पतालीय उपचार (Hospital-based Treatments):

                 - ESWL (Extracorporeal Shock Wave Lithotripsy): यह प्रक्रिया पथरी को छोटे टुकड़ों में बांटने के लिए शोक वेव्स का उपयोग करती है।


                 - उरोस्कोपी (Ureteroscopy): इसमें एक ट्यूब के माध्यम से उरीन के माध्यम से एक छोटी सी कैमरा और उपकरणों का उपयोग किया जाता है जो पथरी को हटाने में मदद कर सकता है।


                 - PCNL (Percutaneous Nephrolithotomy): इसमें एक छोटी छेद के माध्यम से पथरी को निकालने के लिए विशेष उपकरणों का उपयोग किया जाता है।


              3. घरेलू उपचार (Home Remedies):

                   - पानी पीना: अधिक मात्रा में पानी पीना पथरी को बाहर निकालने में मदद कर सकता है।


                   - नींबू पानी: नींबू का रस पीने से और इसे पानी में मिलाकर पीने से पथरी में आराम मिल सकता है।


                   - सूखे अंजीर और अखरोट: इन्हें रात भर भिगोकर सुबह खाने से भी फायदा हो सकता है।


                "यह सभी उपचार विभिन्न स्तरों पर पथरी को निकालने में मदद कर सकते हैं। लेकिन यह जरूरी है कि आप अपने चिकित्सक से सलाह लें और वे आपकी विशेष स्थिति के आधार पर सबसे उपयुक्त उपचार का सुझाव दें।"

                 

                 

                आयुर्वेदिक चिकित्सा में उपयुक्त दवाएँ:

                आयुर्वेदिक चिकित्सा में पथरी के उपचार के लिए कई प्राचीन और प्रमुख दवाएँ हैं। ये दवाएँ पथरी को निकालने में मदद कर सकती हैं और आपकी स्थिति को सुधार सकती हैं। यहाँ कुछ प्रमुख आयुर्वेदिक दवाओं का उल्लेख किया गया है:

                1. शिलाजीत (Shilajit): यह एक प्राकृतिक औषधि है जो पथरी को निकालने में मदद कर सकती है। इसे पानी में घोलकर पीने का सुझाव दिया जाता है।

                1. गोक्षुर (Gokshura): यह मूत्रसंचार को बढ़ाने और पथरी को निकालने में मदद करने के लिए जाना जाता है।

                1. पुनर्नवा (Punarnava): यह एक शक्तिशाली मूत्रवर्धक दवा है जो किडनी की सफाई में मदद करती है और पथरी को निकालने में भी सहायक हो सकती है।

                1. गुडूची (Guduchi): यह एक प्राकृतिक रोगनाशक है और यूरिन की संचार को बढ़ाने में मदद कर सकता है।

                1. त्रिकटु (Trikatu): यह मिश्रित औषधि है जो पाचन को सुधारने और अपाचन को बढ़ाने में मदद करती है, जिससे पथरी को निकालने में सहायक हो सकती है।

                1. दर्भ (Darbha): यह एक प्राचीन आयुर्वेदिक दवा है जिसे मूत्रसंचार को बढ़ाने के लिए उपयोग किया जाता है।

                यदि आप आयुर्वेदिक दवाओं का उपयोग करना चाहते हैं, तो सबसे अच्छा होगा कि आप एक प्रमाणित आयुर्वेदिक चिकित्सक से परामर्श करें। वे आपकी विशेष स्थिति को देखते हुए आपके लिए सबसे उपयुक्त और सुरक्षित दवा का सुझाव देंगे।



                पथरी रोकने के उपाय: आहार और जीवनशैली

                पथरी को रोकने और उसकी बढ़ती हुई संभावनाओं को कम करने के लिए आहार में कुछ परिवर्तन किए जा सकते हैं। निम्नलिखित कुछ उपाय आपके लिए उपयुक्त हो सकते हैं:

                • पानी की मात्रा बढ़ाएं:

                पानी पीने की सही मात्रा में रहना बहुत महत्वपूर्ण है। अधिक पानी पीने से मूत्र संचार में सुधार होता है और पथरी के बनने की संभावना कम होती है। दिन में कम से कम 8-10 गिलास पानी पीने का प्रयास करें।

                पथरी तोड़ने की दवा, बिना ऑपरेशन पथरी का इलाज, kidney kharab ke lakshan, kidney kharab hone ke karan

                  • उचित आहार:

                    • कैल्शियम संज्ञानशील आहार की सीमा करें: अधिक कैल्शियम वाले आहारों की सीमा करें, जैसे दूध और दूध से बनी चीजें। इसे संभावित पथरी के जन्म के लिए एक मुख्य कारक माना जाता है।
                    • ओक्सलेट संज्ञानशील आहार की सीमा करें: ओक्सलेट पथरी के गठन को बढ़ा सकते हैं। इसलिए, ओक्सलेट संज्ञानशील आहार जैसे स्पिनेच, मूली, बीटरूट, अलू, गोभी, शामिल करने से बचें।
                    • पोटैशियम संज्ञानशील आहार शामिल करें: इसमें खरबूजा, खीरा, केला, सेब, नारियल पानी, दही, और मूली शामिल हो सकते हैं।

                       

                       

                      पथरी को रोकने के लिए अपनी जीवनशैली में निम्नलिखित परिवर्तन कर सकते हैं:

                       

                      1. नियमित पानी पीना: अपने दिनचर्या में नियमित रूप से पानी पीना शामिल करें। पानी मूत्र संचार को बढ़ाता है और पथरी के गठन को कम करता है।

                      2. साइक्लिकल विटामिन डी स्तर की जांच करें: कुछ अध्ययनों में दिखाया गया है कि विटामिन डी की कमी पथरी के बढ़ने को बढ़ा सकती है। अपने डॉक्टर से विटामिन डी की जांच करवाएं और यदि आवश्यक हो, तो सप्लीमेंट्स लें।

                      3. नियमित व्यायाम: नियमित व्यायाम करना स्वास्थ्य को सुधारने में मदद कर सकता है और पथरी के जोखिम को कम कर सकता है।

                      4. उचित आहार: उचित आहार खाना पथरी को रोकने में मदद कर सकता है। ज्यादा कैल्शियम, ओक्सलेट, और पोटैशियम वाले आहारों से बचें। फल और सब्जियों को अधिकतम हिस्सा बनाएं।

                      5. नियमित मूत्र संचार: मूत्र संचार को बढ़ाने के लिए नियमित रूप से मूत्र अधिकतम बनाएं।

                      6. दवाइयाँ और सप्लीमेंट्स: अपने डॉक्टर से सलाह लें और विटामिन या अन्य सप्लीमेंट्स लें जो पथरी को रोकने में मदद कर सकते हैं।

                         

                         

                        श्री च्यवन आयुर्वेदिक चिकित्सा:

                        श्री च्यवन आयुर्वेद ने किडनी स्टोन के लिए प्रभावी ढंग से आयुर्वेदिक दवा - स्टोन केयर किट तैयार की है। गुर्दे की पथरी खनिजों और एसिड लवणों का कठोर जमाव है जो केंद्रित मूत्र में एक साथ चिपक जाते हैं। मूत्र पथ से गुजरते समय वे दर्दनाक हो सकते हैं, लेकिन आमतौर पर स्थायी क्षति नहीं पहुंचाते हैं। यह आपके संपूर्ण गुर्दे की पथरी के आयुर्वेदिक उपचार के लिए उपलब्ध सर्वोत्तम उत्पाद श्रृंखला है।

                        stone treatment medicine in ayurveda , पथरी तोड़ने की दवा

                        1. चंद्रभा वटी: श्री च्यवन आयुर्वेद की चंद्रप्रभा वटी यूरिक एसिड के स्तर को कम करने में मदद करती है, जो मधुमेह को नियंत्रित करने में सहायक है।

                        सामाग्री: इसमें आंवला, चंदन, दारुहरिद्रा, देवदारू, कपूर, दालचीनी और पीपल शामिल हैं।


                        कैसे इस्तेमाल करें: रात को सोने से पहले 1 गोली का सेवन करें।


                        1. स्टोनहरी वटी: यह किडनी स्टोन, पित्ताशय की पथरी और किडनी से संबंधित अन्य बीमारियों के लिए वास्तव में प्रभावी आयुर्वेदिक दवा है। यह किडनी स्टोन की सर्वोत्तम आयुर्वेदिक गोली है।

                        सामाग्री: इसमें मूलक्षार, हजरात्यहुद्भासम, पुनर्नवा, गोखरू, वरुण चल, जामुन चल, वज्र चल, वज्र पर्पति, श्वेत पर्पति, पाषाणभेद जैसी सामग्रियां शामिल हैं।


                        कैसे उपयोग करें: एक गोली दिन में तीन बार या चिकित्सक के निर्देशानुसार।


                        1. यूटीआई केयर सिरप: यह मूत्र संक्रमण और मूत्र रुकावटों में उपयोगी है। यह आपके शरीर के लिए डिटॉक्सिफायर के रूप में भी काम करता है और आपके सिस्टम को साफ करता है। यह किडनी स्टोन के लिए सर्वाधिक अनुशंसित आयुर्वेदिक सिरप है।

                        सामाग्री: इसमें मुख्य रूप से वरुण चल, शरपुंखा, गोखरू, पुनर्नवा, अमले, हरदे, बहेड़ा, सारिवा, स्वात चंदन, अशोक छाल, कंचनार, गुल्लर फल, पीपर छाल, सहजन की छाल, बब्बल छाल, धतकीपुष्पा शामिल हैं।


                        कैसे उपयोग करें: ठंडे पानी के साथ या चिकित्सक के निर्देशानुसार दिन में तीन बार 1 चम्मच सेवन करें।

                         

                         

                        सलाह और सावधानियां:

                        पथरी या किडनी स्टोन्स के इलाज के लिए कुछ अत्यंत महत्वपूर्ण सलाह और सावधानियां हैं जिन्हें आपको ध्यान में रखना चाहिए:

                        1. पानी पीना: पथरी के इलाज में सबसे महत्वपूर्ण चीज है प्रतिदिन पर्याप्त मात्रा में पानी पीना। यह गुर्दे में बने पथरी को छोटे टुकड़ों में विभाजित करने में मदद करता है। यदि आपको पथरी हो तो आपको दिन में कम से कम 8-10 गिलास पानी पीना चाहिए।

                        2. परहेज रखें: तले हुए और तीक्ष्ण चीजों से बचें। अधिक तले हुए और तीखे खाने का सेवन करने से पथरी बढ़ सकती है। इसके बजाय, स्वस्थ आहार खाएं और अपने डाइट में प्राकृतिक पौष्टिकता शामिल करें।

                        3. नियमित व्यायाम: योग और व्यायाम पथरी के इलाज में महत्वपूर्ण हो सकते हैं। योगासन और प्राणायाम गुर्दे की स्वास्थ्य को सुधार सकते हैं और पथरी के गठन को रोकने में मदद कर सकते हैं।

                        4. स्वस्थ जीवनशैली: धूम्रपान और शराब का सेवन कम करें, क्योंकि इनकी मात्रा बढ़ने से पथरी का जोन बढ़ सकता है।

                        5. चिकित्सा जांच: यदि आपको पथरी के लक्षण दिखाई देते हैं, तो शीघ्र चिकित्सा सलाह लें और उपयुक्त जांच करवाएं। डॉक्टर की सलाह के बिना किसी भी दवा का सेवन न करें।

                        6. उपचार का पालन: डॉक्टर द्वारा दिए गए उपचार योग्यतापूर्वक पालन करें और उनकी सलाह अनुसार आगे की चिकित्सा प्रक्रिया को अवश्य पूरा करें।

                        7. आयुर्वेद को अपनाएं: आयुर्वेद को पथरी के इलाज में एक प्रमुख उपाय माना जाता है जो सामान्य विधियों से थोड़ा अलग है। इसमें प्राकृतिक औषधियों, आहार और विशेष आचार-विचार की सलाह शामिल होती है। इसे अपनाने से पथरी पर सफलता प्राप्त किया जा सकता है। 

                         

                        इन सलाह और सावधानियों को ध्यान में रखकर आप पथरी के इलाज में सफलता प्राप्त कर सकते हैं। यदि आपको इस विषय में अधिक जानकारी चाहिए या किसी अन्य विशेष सवाल का सामना करना पड़े, तो अपने चिकित्सक से परामर्श करना सर्वोत्तम होगा।

                        Back to blog